Types of Numbers in Hindi - संख्याओं के प्रकार

संख्याएं 12 प्रकार की होती है। 
  1. प्राकृतिक संख्या- गिनती में उपयोग की जाने वाली सभी संख्याएं प्राकृतिक संख्या कहलाती हैं। जैसे- 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7,…………......
  2. सम संख्या- ऐसी प्राकृतिक संख्या जो 2 से पूर्णतः विभाजित होती हैं, उन्हें सम संख्या कहा जाता है।  जैसे- 2, 4, 6, 8, 10, 12,…………....
  3. विषम संख्या- ऐसी प्राकृतिक संख्या जो 2 से पूर्णतः विभाजित न हो उन्हें विषम संख्या कहते हैं। जैसे- 1, 3, 5, 7, 9, 11,………………...
  4. पूर्णांक संख्या- धनात्मक, ऋणात्मक और जीरों से मिलकर बनी हुई संख्याएँ पूर्णांक संख्या होती है। जैसे- -3, -2, -1, 0, 1, 2,……………इसे तीन भागों में बाँटा गया है। 1. धनात्मक संख्या- 1 से लेकर अनन्त तक की सभी धनात्मक संख्याएँ धनात्मक पूर्णांक है, 2. ऋणात्मक संख्याएँ- 1 से लेकर अनन्त तक की सभी ऋणात्मक संख्याएँ ऋणात्मक पूर्णांक है। 3. उदासीन पूर्णांक- ऐसा पूर्णांक जिस पर धनात्मक और ऋणात्मक चिन्ह का कोई प्रवाह ना पड़े। और यह जीरो होता है। जैसे - -3, -2, -1, 0, 1, 2, 3, 4,......
  5. पूर्ण संख्या- प्राकृतिक संख्याएँ में 0 से शामिल कर लेने से पूर्ण संख्या बनती हैं। जैसे- -0, 1, 2, 3, 4, 5,………………
  6. भाज्य संख्या- ऐसी प्राकृत संख्या जो स्वंय और 1 से विभाजित होने के अतिरिक्त कम से कम किसी एक अन्य संख्या से विभाजित हो उन्हें भाज्य संख्या कहते हैं। जैसे- 4, 6, 8, 9,………………
  7. अभाज्य संख्या- ऐसी प्राकृतिक संख्याएँ जो सिर्फ स्वयं से और 1 से विभाजित हो और किसी अन्य संख्या से विभाजित न हो उन्हें अभाज्य संख्या कहते है। जैसे- 2, 3, 5, 7, 11,………………
  8. सह अभाज्य संख्या- कम से कम 2 अभाज्य संख्याओं का ऐसा समूह जिसका (HCF) 1 हो।  जैसे- (5, 7), (2, 3)
  9. परिमेय संख्या- ऐसी सभी संख्या जिन्हें p/q के रूप में लिखा जा सकता हैं। उन्हें परिमेय संख्या कहते है। (q का मान जीरो नहीं होना चाहिये।) जैसे- √4, 7/5, 2/3, 3...
  10. अपरिमेय संख्या- ऐसी संख्या जिन्हें p/q के रूप में नही लिखा जा सकता हैं। मुख्यतः उन्हें ('√') के अन्दर लिखा जाता है। और उनका पूर्ण वर्गमूल नहीं निकलता है। जैसे- √5, √7, √11, √13,…
  11. वास्तविक संख्या- परिमेय और अपरिमेय संख्याओ को सम्मलित रूप से लिखने पर वास्तविक संख्याएँ प्राप्त होती है। जैसे- √4, √11, 4/7
  12. अवास्तविक संख्या- √-6, √-5, √-29

Post a Comment

0 Comments