भारत की राष्‍ट्रीय पहचान के प्रतीक - Symbols of India's national identity in Hindi

भारत का राष्ट्रीय ध्वज 
भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा है। इसमें तीन समान चैड़ाई की क्षैतिज पट्टियाँ हैं। ध्वज की लम्बाई और चैड़ाई का अनुपात 3ः2 है। राष्ट्रीय ध्वज का प्रारूप संविधान निर्मात्री सभा द्वारा 22 जुलाई, 1947 को अपनाया गया और 14 अगस्त 1947 को प्रस्तुत किया गया। 

भारत का राज चिन्ह


भारत का राज चिन्ह मौर्य सम्राट अशोक द्वारा सारनाथ में स्थापित सिंह स्तम्भ से लिया गया है। भारत सरकार द्वारा यह चिन्ह 26 जनवरी, 1950 को अपनाया गया। 

भारत का राष्ट्रीय खेल


भारत का राष्ट्रीय खेल हाँकी है। हाँकी का उद्भव भारत में नहीं हुआ था, लेकिन 1928 ई0 के एम्स्टर्डम ओलम्पिक से भारत में इसकी पहचान बनी, जब भारत ने इसे ओलम्पिक में स्वर्ण पदक जीता। 

भारत का राष्ट्रीय पंचांग 

कैलेण्डर भारत का राष्ट्रीय पंचाग शक संवत् पर आधारित है। 78 ई0 में प्रारम्भ हुए शक संवत् का पहला महीना चैत्र का है। भारतीय संविधान ने इसे 22 मार्च, 1957 को राष्ट्रीय पंचांग के रूप में ग्रहण किया। 

भारत का राष्ट्रगान 
भारत का राष्ट्रीय गान गुरूदेव रवीन्द्रनाथ टैगोर द्वारा रचित ‘जन-गण-मन’ है। राष्ट्रीय गान को गाने का निर्धारित समय लगभग 52 सेकण्ड है। 

भारत का राष्ट्रगीत 

भारत का राष्ट्रीय गीत बंकिमचन्द्र चटर्जी द्वारा लिखित ‘वन्देमातरम्’ है। 

भारत का राष्ट्रीय पशु 
भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ (पैंथरा टाइग्रिस-लिन्नायस) है। यह पीले रंग और कत्थई धारीदार लोमचर्म वाला एक पशु है। भारत में पाई जाने वाली बाघ की प्रजाति को ‘रायल बंगाल टाइगर’ के  नाम से जाना जाता है। 

भारत का राष्ट्रीय पक्षी
भारत का राष्ट्रीय पक्षी 'मोर' (पावो क्रिस्टेटस) है, जो भारतीय वन्य जीव (संरक्षण अधिनियम), 1972 के अन्तर्गत पूरी तरह संरक्षित है। 

भारत का राष्ट्रीय वृक्ष 
भारत में बरगद (फाइकस बेन्गालेन्सिस) को राष्ट्रीय वृक्ष के रूप में मान्यता प्राप्त है, इसे ’वट’ नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि यह कभी नष्ट नहीं होता है। लम्बे जीवन के कारण इस वृक्ष को अनश्वर माना जाता है। भारत में इसे 'पूज्य' माना जाता है। 

भारत का राष्ट्रीय पुष्प 

भारत का राष्ट्रीय पुष्प 'कमल' (नेलम्बो न्यूसिफेरा) है। यह हल्का गुलाबी रंग का होता है।

भारत का राष्ट्रीय नदी 
गंगा को राष्ट्रीय नदी 4 नवम्बर, 2008  में घोषित किया गया था। यह भारत की सबसे लंबी नदी है, जो पर्वतों, घाटियों, एवं मैदानों से बहती हुई 2510 किमी की दूरी तय करती है। यह हिमालय के गंगोत्री ग्लेशियर से निकलती है।  

Post a Comment

0 Comments